ऑपरेटिंग सिस्टम प्रकार-Types of operating system in Hindi in 2021

दोस्तों आज मैं इस पोस्ट में बात करने वाला हूँ Types of operating system in Hindi यानि की Operating System के प्रकार के बारे, क्योकि लोगो OS के Types को बारे में जानना है और वो जानना भी चाहते है पर लोगो ने इतना गलत और कठिन तरके से समझाया अहइ की वो जब उसको पढ़ते है तो पहले तो उनको कुछ भी समझ में ही नहीं आता है।

और अगर ज्यादा मेहनत करने के बाद कुछ पता भी चल जाता है तो उनको फिर भी सारी चीजे क्लियर नहीं हो पाती है इस वजह से मैंने आपके लिए इस पोस्ट को लिखने का सोचा जिससे की आपको Operating System के बारे में ठीक और आसान शब्दो में समझा सकू।

और अगर आपको भी Operating System के बारे में जानना है और आप परेशान हो गए है ठीक सा रास्ता ठंड ढूंढ कर तो ये पोस्ट आपके बहुत ही ज्यादा काम आने वाली है।

इसे भी पढ़े: रेफरल कोड क्या होता है और इसे कैसे पैसे कमाए?

इस पोस्ट में आपको अपने शब्दो में समझने की कोशिस करूँगा जिससे की आपको ज्यादा से ज्यादा चीजे क्लियर हो सके तो चलिए अब शुरू करें।

Table of Contents

Operating System के प्रकार ?|Types of operating system in Hindi-

तो Operating System ke prakar को जानने से पहले मैं आपको थोड़ा कुछ ऑपरेटिंग सिस्टम के बारे में भी बता देना चाहता हूँ जिससे की आपको जो भी मैं समझाना चाहता हूँ उसको आपको समझने में आसानी हो सके।

ऑपरेटिंग सिस्टम क्या होता है | What is Operating System in hindi-

तो सबसे पहले बात करते है Operating System के बारे में  तो आप सभी कंप्यूटर या मोबाइल फ़ोन को चलते होंगे तो जब भी कोई भी आपसे पूछता है की आपके लैपटॉप में कौन सा ऑपरेटिंग सिस्टम है तो आप या तो बोलते है Windows या Mac या फिर Linux ये तीन तरह के ऑपरेटिंग सिस्टम उसे किये जाते है।

तो ऑपरेटिंग सिस्टम वो माध्यम होता है जिसके द्वारा आप और आपका computer एक दूसरे से बात करते है यानि की आप दोनों में सम्बंद बना रहता है।

बस इतना ही होता है कभी अपने देखा है की आपके लैपटॉप की Window उड़ गयी हो और आप उस पर काम कर सकते हो तो बस यही होता है Operating System.

Operating System के प्रकार ?|Types of operating system in Hindi-

तो अब बात कर लेते है की OS के प्रकार के बारे में तो Operating System के जो प्रकार होते है वो बहुत सारे आधारों पर किया गया है तो सबसे पहले मैं आपको उन आधारों के बारे में बताऊंगा और उन आधारों के बेसेस पर ऑपरेटिंग सिस्टम कितने तरह के होते है उस बारे में भी आपको सारी चीजे क्लियर करने की कोशिस करूँगा।

User के काम करने के आधार पर –

तो सबसे पहले जो भी User काम करता है उसके आधार पर Operating System को दो भागो में बात गया है।

1.पहला होता है सिंगल यूजर ऑपरेटिंग सिस्‍टम (Single User Operating System)-

2.और दूसरा होता है मल्‍टीयूजर ऑपरेटिंग सिस्‍टम (Multi User Operating System)

काम के मोड के आधार पर ऑपरेटिंग सिस्टम के Types-

तो अब जो Operating System का Type आता है वो आता है जब यूजर काम करता है तो उसका कुछ mode होता है तो उसके आधार तो इस आधार पर Operating System दो तरह के होते है –

.कैरेक्टर यूजर इंटरफेस (Character User Interface)

2.ग्राफिकल यूज़र इंटरफेस (Graphical user interface)

कंप्यूटर की विकास पीढ़ी के आधार पर ऑपरेटिंग सिस्टम के प्रकार-

तो कंप्यूटर की जो भी विकास की पीडियां थी उसके आधार पर Operating system के साथ प्रकार होते है –

1.बैच प्रोसेसिंग सिस्‍टम (Batch Processing System)

2.टाइम शेयरिंंग या मल्‍टी यूजर ऑपरेटिंग सिस्‍टम (Time Sharing Or Multi User Operating System)

3.मल्‍टी टॉस्किंंग ऑपरेटिंग सिस्‍टम (Multi Tasking Operating System)

4.रियल टाइम ऑपरेटिंग सिस्‍टम (Real Time Operating System)

5.मल्‍टी प्रोसेसर ऑपरेटिंग सिस्‍टम (Multi Processing Operating System)

6.एम्‍बेडेड ऑपरेटिंग सिस्‍टम (Embedded Operating System)

7.डिस्‍ट्रीब्‍यूटेड ऑपरेटिंग सिस्‍टम (Distributed Operating System)

to मैंने आपको यहाँ तक सारे Operating System के प्रकार के बारे में बता दिया है तो अब मैं आपको एक एक करकर इनके बारे मैं तोडा और विस्तार से बताने जा रहा हूँ जिससे की आपको थोड़ी और ज्यादा चींजे क्लियर हो जाएँगी तो अगर आपको Types of operating system in Hindi के सिर्फ प्रकार के बारे में ही जानना था तो आप के लिए ये बहुत है।

इसे भी पढ़े: व्हाट्सप्प स्टेटस कैसे डाउनलोड करें?

पर अगर आप इनके बारे में थोड़ा और विस्तार से जानना चाहते है तो इस आर्टिकल को आप अंत तक पढ़ सकते है।

Operating System के प्रकार ?|Types of operating system in Hindi-

तो चलिए अब बात करते है थोड़ा और OS के बारे में थोड़ा और विस्तार से –

1-सिंगल यूजर ऑपरेटिंग सिस्‍टम (Single User Operating System)-

तो सबसे पहले बात कर लेते है सिंगल यूजर ऑपरेटिंग सिस्‍टम (Single User Operating System) के बारे में तो सिंगल यूजर ऑपरेटिंग सिस्‍टम (Single User Operating System) में kewal एक ही यूजर काम कर सकता है।

अगर एक से ज्यादा यूजर काम करना चाहे तो वो इसमें काम नहीं कर सकते है। और इस तरह का operating System पुराने Windows में किया जाता था।

2.मल्‍टीयूजर ऑपरेटिंग सिस्‍टम (Multi User Operating System)-

तो जैसे की नाम से पता चल रहा है की इस वाले ऑपेरेटिंगसिस्टम में एक से ज्यादा अगर यूजर काम करना छाए और अपने Account को बनाना चाहे तो वो आसानी से बना सकते है और काम कर सकते है जैसे की विंडोज के लेटेस्ट वर्शन।

3.कैरेक्टर यूजर इंटरफेस (Character User Interface)-

तो अब बात कर लेते है Character user interface के बारे में तो इस Operating System में जो भी यूजर काम करता है वो केवल कमांड के द्वारा ही सारा काम किया जाता है।

इस वाले Operating System में हम जो भी काम करते है वो सारा काम केवल Text के रूप में किया जाता है।

5.ग्राफिकल यूज़र इंटरफेस (Graphical user interface)-

तो अब बात कर लेते है Graphical user interface के बारे में तो ग्राफिकल यूजर इंटरफ़ेस में हम जो भी काम करते है उसको हम जो भी कंप्यूटर के Input डिवाइस होती है उनके द्वारा कर सकते है।

हम इस तरह से इंटरफ़ेस में Keyboard mouse से कंप्यूटर को कमांड देकर अपना काम बहुत ही आसानी के साथ कर सकते है।

6.बैच प्रोसेसिंग सिस्‍टम (Batch Processing System)-

तो Batch operating System का यूज़ दूसरी पीढ़ी के कंप्यूटर में किया जाता था और इन कंप्यूटर में होता क्या था इस OS में यूजर और कंप्यूटर में कोई भी डायरेक्ट कनेक्शन नहीं होता था।

इस तरह के इंटरफ़ेस में यूजर एक पहले से ही एक जिस भी तरह का प्रोग्राम चाहिए होता था उसको बना लेते थे और जब भी जरुरत होती थी तो यूजर उस प्रोग्राम को रन कर देता था।

7.टाइम शेयरिंंग या मल्‍टी यूजर ऑपरेटिंग सिस्‍टम (Time Sharing Or Multi User Operating System)-

तो टाइम शेयरिंग या मुलती यूजर ऑपरेटिंग सिस्टम का उपयोग बसीकली नेटवर्किंग में किया जाता है इसमें पहले से ही बहुत सारे यूजर के अकाउंट बना दिए जाते है जिससे की होता क्या है की जब भी बहुत सारे यूजर एक ही सॉफ्टवेयर में अगर काम को करना चाहे तो वो उसको आसानी से कर सकते है।

8.मल्‍टी टॉस्किंंग ऑपरेटिंग सिस्‍टम (Multi Tasking Operating System)-

तो मुलती टास्किंग ऑपरेटिंग सिस्टम जैसे की नाम से ही पता चल रह है की इसम एक ही समय पर एक से ज्यादा काम या टास्क किये जाते है जिनको एक या एक से ज्यादा आदमी कर सकते है।

इसमें प्रोसेसर इतनी तेजी के साथ अपना काम करते है की यूजर को पता भी नहीं च रहा होता है की वो एक से ज्यादा टास्क पर काम कर रहा है।

9.रियल टाइम ऑपरेटिंग सिस्‍टम (Real Time Operating System)-

तो रियल टाइम ऑपरेटिंग सिस्टम में क्या होता है की जब भी हमे कोई भी टास्क ख़त्म करना होता है तो उस टास्क को ख़त्म करने या शुरू करने के लिए हमे उससे पहले वाले टास्क को ख़त्म करना होता है तभी आप उससे अगले वाले टास्क को शुरू कर सकते हो।

अपने इस ओपेररतिंग सिस्टम का यूज़ बहुत सी जगहों पर देखा होगा जैसे की हवाई यात्रा नियंत्रण में या कार्यो में इसका बहुत ज्यादा यूज़ किया जाता है ।

10.मल्‍टी प्रोसेसर ऑपरेटिंग सिस्‍टम (Multi Processing Operating System)-

इस तरह के ऑपरेटिंग सिस्टम का यूज़ उन जगहों पर किया जाता है जहाँ पर एक से ज्यादा प्रोसेसर लगे होतेहै और उन सभी प्रोसेसर का यूज़ वहां पर किया जाता है।

जब हम एक से ज्यादा प्रोसेसर का यूज़ करते है तो हम इस तकनीक को पेरे‍लल प्रो‍सेसिंग कहते है।

11.एम्‍बेडेड ऑपरेटिंग सिस्‍टम (Embedded Operating System)-

एम्बेडेड ऑपरेटिंग सिस्टम का यूज़ उन devices में क्या जाता है जिंसमे पहले अंदर ही ऑपरेटिंग सिस्टम इनस्टॉल होता है जैसे – फ्रिज , वाशिंग मशीने माइक्रोवेव आदि तरह की devices . में इस ऑपरेटिंग सिस्टम का यूज़ किया जाता है।

12.डिस्‍ट्रीब्‍यूटेड ऑपरेटिंग सिस्‍टम ( Distributed Operating System)-

डिस्ट्रिब्यूटेड ऑपरेटिंग सिस्टम में बहुत सारे प्रोसेसर का यूज़ किया जाता है इसलिए ये ऑपरेटिंग सिस्टम का यूज़ वहां अपर किया जाता है जहाँ पर बहुत ही बड़े बड़े काम किये जाते है।

इस ऑपरेटिंग सिस्टम का यूज़ करने का सबसे बड़ा फायदा ये होता है की अगर कही पर अगर एक कंप्यूटर अगर ख़राब हो जाता है तो उसकी जगह पर दूसरा कंप्यूटर यूज़ किया जा सकता है।

अंतिम विचार – Types of operating system in Hindi in Details in 2021

मैं आशा करता हूँ की आपको Types of operating system in Hindi ये पूरी तरह से समझ में आ गया होगा और साथ ही साथ आप Operating System ke prakar इससे जुड़े सारे डाउट ख़त्म हो गए होंगे।

साथ ही साथ आपको आप आपको ऑपरेटिंग सिस्टम के कौन कौन से प्रकार होते है और उनका यूज़ कब कब होता है ये भी आपकी समझ में आ गया होगा अगर अभी भी अगर आपके Types of operating system in Hindi से जुड़े कोई भी सवाल है तो आप मुझे Comment Box में पूछ सकते है ।

और अगर आप वेबसाइट पर Operating System ke prakar इससे जुडी कोई भी सलाह या जानकारी देना चाहते है तो भी आप मुझे कमेंट बॉक्स में बता सकते है ।

और अगर आपको हमारा Types of operating system in Hindi पसंद आया है तो आप इसे अपने परिवार और दोस्तों के साथ Facebook और Whatsapp पर share भी कर सकते है।

आपका हमारा आर्टिकल ऑपरेटिंग सिस्टम के कौन कौन से प्रकार और उनका क्या क्या यूज़ है ? के बारे में  पढ़ने के लिए धन्यवाद।

इसे भी पढ़े :

1.वेबसाइट पर लाइफटाइम के लिए फ्री SSL कैसे यूज़ करें ?

2.आसानी से पैसे कमाने वाला ब्लॉग कैसे बनाये?

3.Blog से किन किन तरीको से पैसे कमा सकते है?

 

My name is Monit Kumar and I am an Engineer by Profession and Blogger and Affiliate Marketer By Passion. I Started Rockbuget for Providing quality and Genuine Knowledge about the Blogging, Affiliate marketing and Online Earning related Content.

1 thought on “ऑपरेटिंग सिस्टम प्रकार-Types of operating system in Hindi in 2021”

Leave a Comment

Share via
Copy link
Powered by Social Snap